लापता

कई दिनों से मेरा पता पूछ रहा है कोईतुम ख़ामोश क्यों हो?कह क्यों नहीं देते कहाँ हूँया फिर डरते हो,

Continue reading

तुम जेल में हो

अपने ही घर में क़ैद कर दिए जाओवैसी ज़िन्दगी कैसी लगती है?रोज़मर्रा का दायरा तुम्हारा जब कुछ नारों में सिमट

Continue reading

कीचड़

कीचड़ में गिरे तुम क्या ख़ूब मैले निकलेजब मौक़ा मिला धवल नेह कातो चीख़ उठा तुम्हारा प्यार –आह मुझे सौंदर्य

Continue reading

हम तुम

एकल एकसारसमस्त संसार अज़र अभिसार अप्रतिम अलंकार प्रिय प्रेयसीश्रेष्ठ, श्रेयसी सगुण निर्गुण गीत बिन धुन साजन सरस बन मिले हम

Continue reading

दादा

जबसे मैंने लिखना जाना तब से याद हैं वो नीले नीले , प्यार में पगे कीमती ख़ त उनकी याद

Continue reading